मांझी में तार-तार हो रही नल जल योजना, जल स्तर नीचे गिरने से चापाकलों ने पानी उगलना किया बंद

रिपोर्ट: वीरेश सिंह, अम्बालिका न्यूज़,
मांझी (सारण): बिहार सरकार की कल्याणकारी नल जल योजना मांझी में तार तार होकर रह गई है तथा जलस्तर के सतह से नीचे चले जाने के कारण भीषण गर्मी के इस मौसम में गांवों में लगे सरकारी व गैर सरकारी चापाकलों ने भी पानी देना बंद कर दिया है जिस वजह से लोग बून्द बून्द पानी के लिए तरस रहे हैं। स्थानीय स्तर पर संचालित अनुभव जिंदगी का सोशल मीडिया ग्रुप द्वारा कराए गए एक सर्वे ने नल जल योजना में हो रही धांधली व अनियमितता की पोल खोल दी है। मांझी नगर पंचायत के वार्ड नम्बर 14 दुर्गापुर गांव का नल जल पिछले छह माह से बन्द है। लोगों ने बताया कि जब टंकी से पानी आता था तो संचालक उससे अपने खेत की पटवन करता था। यही नही एक सौ रुपये प्रति परिवार देने पर ही वह पानी की सप्लाई करता था। मटियार पंचायत के वार्ड संख्या 10 में दो वर्षों से नलजल योजना ठप है तथा पूर्व वार्ड सदस्य ने उसपर कब्जा जमा रखा है। सोनबरसा पंचायत के वार्ड नम्बर आठ में महीनों से नलजल का पानी बन्द है। जैतपुर पंचायत के वार्ड नंबर 10 में पिछले तीन माह से पानी की सप्लाई बंद है। इनायतपुर पंचायत के वार्ड नम्बर 2 में दो साल से नलजल का पानी बन्द है। मांझी नगर पंचायत के वार्ड नम्बर तीन, नौ तथा 12 में भी पानी की सप्लाई ठप है। कौरुधौरु पंचायत के वार्ड नम्बर 5 तथा डुमरी पंचायत के वार्ड नम्बर 11 में लोगों को नलजल का लाभ नही मिल रहा है। नसीरा पंचायत के मैरवा गांव के लोग भी महीनों से नलजल के पानी से वंचित हैं। डुमरी पंचायत के वार्ड आठ तथा नौ में आजतक टंकी चालू ही नही हुआ। मांझी नगर पंचायत के वार्ड आठ में शामिल 20 घरों तक आजतक पानी नही पहुंच सका है। मांझी नगर पँचायत के वार्ड नम्बर एक में महज तीन घरों तक ही पहुंचाया जा सका है पानी। शेष घरों के लोग आज भी पानी के लिए तरस रहे हैं।

मुबारकपुर पंचायत के वार्ड संख्या 10 में वर्षों से नलजल बन्द पड़ा है। मांझी नगर पंचायत के वार्ड सात में 15 दिनों से तथा डुमरी पंचायत के वार्ड सात में 5 दिनों से पानी की सप्लाई बंद है। गोबरही पंचायत के वार्ड नम्बर 12 तथा 13 में महीनों से नल जल योजना ठप है। आदर्श पंचायत बरेजा तथा सितलपुर एवम घोरहट पंचायत में भी कई नलजल टंकी के बन्द रहने की खबर है। इस सम्बंध में पूछे जाने पर बीडीओ रंजीत सिंह ने बताया कि नलजल योजना तथा सरकारी चापाकलों की देखरेख व संचालन की जिम्मेवारी पीएचईडी विभाग के जेई की है। नलजल व सरकारी चापाकलों से सम्बन्धित लोगों की शिकायतों को प्रखण्ड कार्यालय द्वारा पीएचईडी के जेई को उपलब्ध करा दी गई हैं।